कॉपीराइट नीति


इस साईटपर उपलब्‍ध सामग्री जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय की है और इसकी बिना विशिष्‍ट अनुमति लिए किसी भी रूप अथवा मीडिया में निशुल्‍क पुनरावृत्ति की जा सकती है बशर्ते कि सामग्री की सही पुनरावृत्ति की गई है और अपमानजनक रूप में अथवा भ्रामक संदर्भ में प्रयोग नहीं किया जा रहा है। सामग्री के प्रकाशन/अन्‍य को जारी करने में, स्‍त्रोत को मुख्‍य रूप से बताया/घोषित किया जाए। तथापि, सामग्री की पुनरावृत्तिकी अनुमति ऐसी सामग्रीपर नही है जो तृतीय पक्षकारके कॉपीराईट होने के रूप में विशेष रूप से चिन्हित है। ऐसी सामग्री की पुनावृत्ति का प्राधिकार संबंधित कॉपीराईट धारक से प्राप्‍त किया जाएगा।


हाईपर लिंकिंग नीति


वेबसाईट पर उपलब्‍ध बाह्य लिंक: आपको वेबसाईट में अनेक स्‍थानों पर,अन्‍य वेबसाईट/पोर्टल के वेबलिंक मिलेगें। ये लिंक आपकी सुविधा के लिए दिए गए है। लिंक की गई वेबसाईट की सामग्री और विश्‍वसनीयता के लिए जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय उत्‍तरदायी नहीं है और उनमें अथवा उनके प्रकाशित वेबलिंक के जरिए अभिगम्‍य वेबासाईटों पर व्‍यक्‍त विचारों को अनिवार्यत: पृष्‍ठाकंन नहीं करता। इस वेबासाईट पर लिंक अथवा उसको सूचीकरण को किसी भी रूप में पृष्‍ठाकन न समझा जाए। इम यह गांरटी नहीं ले सकते कि ये लिंक सभी समय में कार्य करेगें और इन लिंक किए गए पृष्‍ठों की उपलब्‍धता/ अनुपलब्‍धता पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है। अन्‍य वेबसाईट/पोर्टल द्वारा जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय के लिंक इस साईट पर किसी वेबसाईट/पोर्टल से निर्देशित हाईपरलिंक से पूर्व अनुमति आवश्‍यक है। इसकी अनुमति, उन पृष्‍ठों की सामग्री के स्‍वरूप का उल्‍लेख करके जहां से लिंक दिया जाना है और हापरलिंक की सही भाषा-भाष्‍य egov-mowr[at]nic[dot]in पर अनुरोध भेजकर प्राप्‍त की जा सकती है।


वेबसाईट मॉनीटरिंग नीति


वेबसाईटमॉनीटरिंगनीति के अंतर्गत, वेबसाईट के बग –निर्धारण के मसलों का समाधान करने,गलत जानकारी को सही करने और गुणवत्‍ता बनाए रखने और निम्‍नलिखित मानदंडो से संबंधित अनुकूलता मुद्दो के समाधान के लिए आवधिक मॉनीटरिंग किया जाना है:

कार्यात्‍मकता: वेबसाईट के सभी मॉड्यूल का उनकी कार्यात्‍मकता और उनके सुचारू कार्यकरण हेतु अंत: लिंकिंग अनुकूलता के लिए परीक्षित है।

निष्‍पादन: वेबसाईट के सभी महत्‍वपूर्ण पृष्‍ठ डाउनलोड समय के लिए परीक्षित है।

ब्रोकन लिंक: किसी ब्रोकन लिंक अथवा गलती होनेकी संभावना को समाप्‍त करने के लिए वेबसाईट की सूक्ष्‍मता से समीक्षा की जाती है।

सामग्री:- वेबसाईट की समाग्री का संबंधित विषय प्रभाग/विंग द्वारा नियमित मॉनीटरिंग किया जाता है। वेबसाईट पर अपलोड करने के लिए संबंधित एसएमडी/विंग समय-समय पर अद्यतित सामग्री उपलब्‍ध कराता है।


प्रकटन


होस्टिंग सेवा प्रदान के पास अत्‍याधुनिक बहुस्‍तरीय अवसंरचना और फायरवेल तथा अनुचित प्रवेश निवारक प्रणालियां हैं।


सामग्री योगदान, मॉडरेशन और अनुमोदन नीति (सीसीएपी)


एकरूपता बनाए रखने और संबंधित मेटाडेटा और कीवर्ड के साथ मानकीकरण लाने के लिए निरंतर फैशन में सीएडीडब्ल्यूएम विंग ऑफ डॉवर के समूहों / डिवीजनों से अधिकृत सामग्री प्रबंधक द्वारा सामग्री का योगदान करने की आवश्यकता है। दर्शकों की आवश्यकता के अनुसार सामग्री को प्रस्तुत करने के लिए, सामग्री को वर्गीकृत तरीके से व्यवस्थित करें और प्रासंगिक सामग्री को कुशलता से पुनः प्राप्त करने के लिए, सामग्री प्रबंधन प्रणाली के माध्यम से वेबसाइट पर सामग्री का योगदान करना आवश्यक है जो वेब आधारित होगा उपभोक्ता - अनुकूल इंटरफ़ेस।

पोर्टल पर सामग्री संपूर्ण जीवन-चक्र प्रक्रिया से गुजरती है: -
* निर्माण
* संशोधन
* अनुमति
* प्रकाशन
* समाप्ति
* अभिलेखीय

सामग्री के योगदान के बाद इसे वेबसाइट पर प्रकाशित होने से पहले एचओडी द्वारा अनुमोदित और वेब सूचना प्रबंधक द्वारा संचालित करने की आवश्यकता होती है। मॉडरेशन बहुस्तरीय हो सकता है और भूमिका आधारित है। यदि सामग्री को किसी भी स्तर पर अस्वीकार कर दिया जाता है तो इसे संशोधन के लिए सामग्री के प्रवर्तक के पास वापस भेज दिया जाता है

# देखें, हमसे संपर्क करें
यदि किसी विशेष स्तर का अधिकारी पदानुक्रम में उपलब्ध नहीं है, तो अन्य ऊपरी स्तर के अधिकारी को प्रबंधन की योजना में अपनी भूमिका के अतिरिक्त कर्तव्यों का निर्वहन करना चाहिए। वेब सूचना प्रबंधक के अनुमोदन से ही वेबसाइट पर नए लिंक बनाए जा सकते हैं।

प्रारंभिक अनुभाग वेबसाइट पर सामग्री का स्वामी है। सामग्री की शुद्धता, सटीकता और प्रासंगिकता के लिए प्राथमिक जिम्मेदारी संबंधित अनुभाग की है, संबंधित अनुभाग के जिम्मेदार कर्मचारी सामग्री के अनुमोदक और मॉडरेटर के रूप में कार्य करेंगे यदि सामग्री सीधे वेबसाइट पर अपलोड की जाती है। उस उद्देश्य के लिए प्रदान किए गए वेब इंटरफेस का उपयोग करके स्वयं अनुभाग। हालांकि, सामग्री को वेबसाइट पर डालने के लिए विचार करने और मॉडरेशन से पहले मंडल प्रमुख या निर्दिष्ट प्राधिकारी का अनुमोदन होना चाहिए।

# एनआईसी सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट पर सामग्री को अपडेट नहीं करेगा या किसी भी प्रकार के लिंक को अपडेट नहीं करेगा। लेकिन वेब सूचना प्रबंधक अपडेट करेगा।

क्रमांक साइट मानचित्र द्वारा सामग्री की समीक्षा और अनुमोदन सामग्री अभिलेखीय
1 होम सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
2 एक नजर में सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
3 डैशबोर्ड सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
4 सीएडीडब्ल्यूएम प्रोग्राम सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
5 परियोजना कार्यान्वयन एजेंसियां सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
6 लक्षित परियोजना सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
7 शैक्षिक वीडियो सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
8 फोटो गैलरी सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
9 दस्तावेज़ सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
10 पहले सीएडीडब्ल्यूएम परियोजनाओं सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
11 सीएडीडब्ल्यूएम मोबाइल एप्लिकेशन सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
12 ताजा खबर सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
13 आसान डाउनलोड सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
14 संपर्क करें सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
15 वेबसाइट नीतियां सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
16 वेब सूचना प्रबंधक सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार


सामग्री समीक्षा नीति (सीआरपी)


सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट जल संसाधन विभाग, आरडी एंड जीआर, जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार का विंग है। भारत की। इसलिए यह आवश्यक है कि वेबसाइट पर सामग्री को अद्यतित और अद्यतित रखा जाए और इसलिए सामग्री समीक्षा नीति की आवश्यकता है। चूंकि सामग्री का दायरा बहुत बड़ा है, विविध सामग्री तत्वों के लिए अलग-अलग समीक्षा नीतियां परिभाषित की गई हैं।

समीक्षा नीति विभिन्न प्रकार की सामग्री तत्वों, इसकी वैधता और प्रासंगिकता के साथ-साथ अभिलेखीय नीति पर आधारित है। नीचे दिया गया मैट्रिक्स सामग्री समीक्षा नीति देता है: -

क्रमांक साइट मानचित्र आयोजन नीति द्वारा सामग्री की समीक्षा और अनुमोदन सामग्री अभिलेखीय
1 होम सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
2 एक नजर में सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
3 डैशबोर्ड सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
4 सीएडीडब्ल्यूएम प्रोग्राम सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
5 परियोजना कार्यान्वयन एजेंसियां सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
6 लक्षित परियोजना सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
7 शैक्षिक वीडियो सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
8 फोटो गैलरी सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
9 दस्तावेज़ सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
10 पहले सीएडीडब्ल्यूएम परियोजनाओं सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
11 सीएडीडब्ल्यूएम मोबाइल एप्लिकेशन सीएडीडब्ल्यूएम विंग नीति के अनुसार
12 ताजा खबर सीएडीडब्ल्यूएम विंग सीएमपी के अनुसार
13 आसान डाउनलोड सीएडीडब्ल्यूएम विंग सीएमपी के अनुसार
14 संपर्क करें सीएडीडब्ल्यूएम विंग सीएमपी के अनुसार
15 वेबसाइट नीतियां सीएडीडब्ल्यूएम विंग सीएमपी के अनुसार
16 वेब सूचना प्रबंधक सीएडीडब्ल्यूएम विंग सीएमपी के अनुसार


1 आकस्मिकता प्रबंधन योजना


1.1 विरूपण की स्थिति में आकस्मिक योजना

1.1.1. विरूपण संरक्षण नीति
• सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट अनुप्रयोग भेद्यताओं और प्रदर्शन के लिए सुरक्षा लेखापरीक्षित है।
• सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट पर किसी भी एप्लिकेशन-स्तर के संशोधन का अर्थ है वेबसाइट का फिर से ऑडिट करना।
• सभी सर्वर के कॉन्फ़िगरेशन और लॉग की समय पर निगरानी की जाती है।
• प्रशासन और कॉन्फ़िगरेशन कार्यों को करने के लिए केवल सिस्टम व्यवस्थापक उपयोगकर्ताओं को सर्वर तक पहुंचने की अनुमति है।
• सभी सर्वर लॉक हैं और नेट से सुरक्षित हैं।
• सामग्री को वीपीएन का उपयोग करके सुरक्षित एफ़टीपी के माध्यम से अपडेट किया जाता है।

1.1.2. सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट के विरूपण की निगरानी
सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट के विरूपण की निगरानी के दो तरीके हैं।
1. साइबर सुरक्षा विभाग लॉग फाइलों का विश्लेषण कर लगातार निगरानी कर रहा है। एनआईसी (मुख्यालय) डेटा सेंटर में सेंट्रल हेल्प डेस्क सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट में संभावित विकृति या अवांछित परिवर्तन के लिए नियमित अंतराल पर वेबसाइटों की निगरानी भी कर रहा है।
2. एनपी वेबसाइट की नियमित निगरानी भी करता है। किसी भी घटना के मामले में, जो भी इसे सबसे पहले नोटिस करेगा, वह तकनीकी प्रबंधक और वेब सूचना प्रबंधक को फोन पर और साथ ही ईमेल के माध्यम से सूचित करेगा।

1.1.3. विरूपण के बाद की जाने वाली कार्रवाई
जैसे ही तकनीकी प्रबंधक और/या वेब सूचना प्रबंधक को वेबसाइट के विरूपण के संबंध में सूचना प्राप्त होगी, निम्नलिखित कदम उठाए जाएंगे:
• विरूपण की डिग्री के अनुसार वेबसाइट को रोकना/आंशिक रूप से रोकना।
• लॉग फ़ाइलों का विश्लेषण करना और विरूपता के स्रोत की समस्या निवारण और सेवा को अवरुद्ध करना।
• विरूपण के प्रकार का विश्लेषण करना और इसे ठीक करना।
• डेटा के पूर्ण नुकसान के मामले में, वेबसाइट डेटा को बैकअप से पुनर्स्थापित करना या लंबे समय तक डाउन होने की स्थिति में DR साइट से वेबसाइट शुरू करना।
• विश्लेषण के लिए सुरक्षा प्रभाग को लॉग फाइल देना।
• सुरक्षा सिफारिशों के आधार पर सभी कमजोरियों को ठीक करना और आवेदनों की फिर से जांच करना।
• बैकअप से प्रभावित/दूषित सामग्री को पुनर्स्थापित करना और साइट को पुनर्स्थापित करना।

1.1.4. विरूपण की किसी भी घटना के मामले में संपर्क विवरण

नाम पद संगठन मेल पता दूरभाष/मोबाइल नं. कार्यालय का पता
गिरीश कुमार तिवारी तकनीकी निदेशक (एनआईसी) सीएडीडब्ल्यूएम, डीओडब्ल्यूआर gkt@nic.in 011-23710312 409, श्रम शक्ति भवन, रफी मार्ग, नयी दिल्ली - 110001
श्री दलबीर सिंह उप सचिव (ई-शासन) सीएडीडब्ल्यूएम, डीओडब्ल्यूआर egov-mowr@nic.in 011-23710333 ई-गवर्नेंस सेल, 6th मंजिल, श्रम शक्ति भवन, रफी मार्ग, नयी दिल्ली – 110001

1.1.5. विरूपण के बाद सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट की बहाली का समय
सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट की बहाली में लगने वाला समय विरूपता की डिग्री और विकृति से प्रभावित सेवाओं पर निर्भर करता है। आदर्श रूप से बहाली में 1 घंटे से 8 घंटे का समय लगेगा

1.1.6. डेटा दूषण
हेड, एनआईसी, डीओडब्ल्यूआर आईटी डिवीजन और एनपी के वेब एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा डेटा बैकअप के लिए एक उचित तंत्र तैयार किया गया है और यह भी सुनिश्चित करने के लिए कि सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट डेटा का उचित और नियमित बैकअप लिया जाता है। सीएडीडब्ल्यूएम डेटा को विभाजित किया जाना चाहिए और विभिन्न सर्वरों में रखा जाना चाहिए और डेटा का बैक अप भी समय-समय पर टेप या हार्ड डिस्क में लिया जाता है ताकि डेटा सर्वर के डाउन होने या डेटा को दूषित करने की स्थिति में, वेबसाइट सेवा अप्रभावित रहे।

1.1.7. हार्डवेयर/सॉफ्टवेयर क्रैश
हालांकि ऐसी घटना दुर्लभ है, फिर भी जिस सर्वर पर वेबसाइट को होस्ट किया गया है, वह किसी अप्रत्याशित कारण से क्रैश हो जाता है, तो वेब होस्टिंग सेवा प्रदाता (एनआईसी) के पास वेबसाइट को जल्द से जल्द बहाल करने के लिए पर्याप्त बुनियादी ढांचा उपलब्ध है।

1.2. प्राकृतिक आपदा/आपदा के मामले में आकस्मिक योजना

ऐसी परिस्थितियाँ हो सकती हैं जिनमें कुछ प्राकृतिक आपदा (किसी व्यक्ति के नियंत्रण से परे कारणों के कारण) के कारण, संपूर्ण डेटा केंद्र जहाँ सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट होस्ट की गई है, नष्ट हो जाती है या अस्तित्व में नहीं रहती है। ऐसी स्थिति में, राष्ट्रीय डेटा केंद्र के प्रभारी निर्देश देंगे कि सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट को DR साइट से शुरू किया जाए, जो NIC स्टेट सेंटर, हैदराबाद में स्थित है।

डेटा सेंटर (SAN) शास्त्री पार्क में स्थापित है, जहाँ सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट के सभी डेटाबेस सर्वर स्थित हैं। एनआईसी शास्त्री पार्क डाटा सेंटर टीम की निम्नलिखित टीम डेटाबेस सर्वर, सैन और सुरक्षा परिनियोजन के सुचारू संचालन के लिए जिम्मेदार है।

क्रमांक नाम पद भूमिका दूरभाष मेल पता
1 सहायक अभियंता सहायक अभियंता सहायक 011 23386189 Support-ndcsp@nic.in

1.2.1. डीआर बहाली के लिए समय
दूरस्थ स्थान से सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट शुरू करने में लगने वाला समय कई बातों पर निर्भर करता है; आदर्श रूप से बहाली में 4 घंटे से 12 घंटे लगेंगे।

1.3. वेबसाइट निगरानी योजना

1.3.1. जिम्मेदार व्यक्ति
सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट की निगरानी के लिए निम्नलिखित गुणवत्ता प्रबंधक जिम्मेदार हैं:
गिरीश कुमार तिवारी
तकनीकी निदेशक (एनआईसी)
दूरभाष - 011- 23710312
मेल - gkt@nic.in

1.3.2. निगरानी की आवृत्ति
सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट मैन्युअल विधियों के साथ-साथ वेब विश्लेषक उपकरणों के माध्यम से नियमित निगरानी करती है। विश्लेषणों की विस्तृत रिपोर्ट http://webservices.nic.in पर वेब आधारित इंटरफेस के माध्यम से प्राप्त की जाती है।
यह पासवर्ड से सुरक्षित है और एनआईसी वेबसाइट एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा एक्सेस किया जाता है। निगरानी किए गए डेटा का मासिक आधार पर एनआईसी वेबसाइट प्रशासन टीम द्वारा विश्लेषण किया जाता है और रिपोर्ट संकलित की जाती है। संकलित रिपोर्ट को गुणवत्ता प्रबंधकों के लिए एनआईसी द्वारा मासिक रूप से और जब भी आवश्यक हो, उपलब्ध कराया जाएगा।
सीएडीडब्ल्यूएम वेबसाइट गुणवत्ता संबंधी मुद्दों जैसे वर्तनी की त्रुटियों और टूटी कड़ियों के लिए भी निगरानी रखती है। वर्तनी जांच साप्ताहिक आधार पर की जाती है और टूटी कड़ियों की दैनिक निगरानी की जाती है।

संपर्क

श्री भास्कर बिष्णु सैकिया

वरिष्ठ संयुक्त आयुक्त

011-23383090

cadwmwm-mowr[at]nic[dot]in

आगंतुकों की संख्या

241316
अंतिम अद्यतन : 17/04/2024

इस वेबसाइट का निर्माण राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र, भारत सरकार द्वारा किया गया है। (सामग्री स्वामित्व जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग)